Wednesday , December 19 2018
Home > Sports > ये 5 दिग्गज जो टेस्ट और वनडे में तो रहे सुपरहिट, लेकिन टी-20 में नहीं कर पाएं कुछ भी कमाल…
5 stars failed t-20 format

ये 5 दिग्गज जो टेस्ट और वनडे में तो रहे सुपरहिट, लेकिन टी-20 में नहीं कर पाएं कुछ भी कमाल…

क्रिकेट के खेल को और ज्यादा रोमांचक बनाने के लिए साल 2005 में टी-20 के फॉर्मेट को शुरु किया गया है। इसके बाद से सवाल उठने लगे कि इसकी बढ़ती लोकप्रियता के चलते क्या टेस्ट क्रिकेट खत्म हो जाएगा। साथ ही ये भी सवाल उठे कि क्या मौजूदा खिलाड़ी इस प्रारूप के लिए तैयार हैं? इन सवालों के साथ टी-20 ने अपना सफर शुरू किया था।

गौरतलब है कि वक्त के साथ-साथ खिलाड़ियों और फैन्स, दोनों ने ही इस प्रारूप को अपनाया और इस हद तक अपना लिया कि इसकी लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ती ही गई। लेकिन इन सब बदलावों के बीच में टेस्ट और वनडे क्रिकेट के कुछ बल्लेबाज ऐसे भी थे, जो इस फॉर्मेट में खुद को फिट नहीं कर पाएं और उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।

आइए जानते हैं ऐसे 5 दिग्गज खिलाड़ियों के बारे में, जो इस फॉर्मेट में हिट नहीं हुए, लेकिन टेस्ट और वनडे में थे सुपरहिट:

शिवनारायण चंद्रपॉल

वेस्टइंडीज का ये दिग्गज बल्लेबाज अपने दो दशकों के लंबे करियर में काफी लोकप्रिय रहा है। टेस्ट और वनडे को मिलाकर इस खिलाड़ी के नाम 20 हजार से ज्यादा रन दर्ज हैं। टेस्ट में चंद्रपॉल का औसत 51.37 का है और उनके नाम पर 30 शतक है। लेकिन टी-20 में उन्होंने वेस्टइंडीज की तरफ से 22 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले और उनका औसत खराब रहा है। टी-20 में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर सिर्फ 41 रनों का है। और औसत भी निराशजनक रही है। वर्ल्ड टी-20 से रिटायरमेंट लेने के बाद उन्होंने घरेलू स्तर पर भी टी-20 मैच खेले, लेकिन उनमें भी उनका औसत सिर्फ 23 का ही रहा।

5 stars failed t-20 format

वीवीएस लक्ष्मण

क्रिकेट जगत में जब भी यादगार मैच जिताने वाली पारियों की बात होती है, तो लक्ष्मण का जिक्र आता है और उन्हें ‘वेरी-वेरी स्पेशल लक्ष्मण’ के मान से याद किया जाता है। वनडे क्रिकेट में भी लक्ष्मण ने अच्छा नाम कमाया, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में उनकी विश्वसनीयता का स्तर ही कुछ और था। टेस्ट में उनका औसत 46 का रहा है। एक उच्च स्तर के बल्लेबाज होने के बावजूद लक्ष्मण टी-20 क्रिकेट में पूरी तरह से बेअसर रहे। उन्होंने हैदराबाद और केरल के लिए आईपीएल सीजन खेले, लेकिन उनका औसत (22.31) और स्ट्राइक रेट (114.71) कुछ असरदार नहीं रहा।

5 stars failed t-20 format

सौरव गांगुली

अपनी आक्रामकता, कप्तानी और कवर पर खेले जाने वाले शॉट्स के लिए मशहूर सौरव गांगुली की मिसालें दी जाती हैं। स्पिनर्स को खेलने में माहिर सौरव गांगुली का करियर भी काफी लंबा रहा है। टेस्ट में उनका औसत 42.17 का जबकि वनडे में 41.02 का रहा है। लेकिन टी-20 के आगमन में गांगुली का करियर अपने आखिरी दौर में था। इस प्रारूप में उम्र खासतौर पर मायने रखती है, क्योंकि ये बहुत तेज रफ्तार का खेल है। इसी कारण गांगुली इस फॉर्मेट में अपना जादू नहीं दिखा पाए। आईपीएल में उन्होंने केकेआर और पुणे वॉरियर्स की तरफ से मैच खेले और टी-20 के लिहाज से उनका स्ट्राइक रेट (107) से भी कम रहा।

5 stars failed t-20 format

जेम्स ऐंडरसन

इंग्लैंड के इस नामी तेज गेंदबाज ने आखिरी टी-20 मैच 2009 में खेला था। टेस्ट क्रिकेट में जेम्स ऐंडरसन का नाम बहुत ही सम्मान के साथ लिया जाता है। वनडे और टेस्ट दोनों में ऐंडरसन, इंग्लैंड की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रह चुके हैं। वनडे में उनके नाम 269 विकेट हैं। वहीं टेस्ट में उन्होंने 523 विकेट लिए हैं। लेकिन ऐंडरसन का ये कमाल टी-20 में नहीं दिखा।

5 stars failed t-20 format

रिकी पॉन्टिंग

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट इतिहास में अगर कोई खिलाड़ी सर डॉन ब्रैडमैन जैसा दर्जा हासिल कर पाया है तो वो रिकी पॉन्टिंग है। एक खिलाड़ी जिसकी कप्तानी में तीन विश्वकप टीम ने जीते हैं और इस खिलाड़ी ने 71 अंतरराष्ट्रीय शतक जड़े हैं। पॉन्टिंग ने टेस्ट करियर में 51.85 की औसत से 13,378 रन बनाए तो वनडे में 42.03 औसत से रन बनाएं है। वनडे करियर में उनके नाम पर 30 शतक हैं। लेकिन बावजूद इसके ये खिलाड़ी टी-20 में अपने बनाए मानकों पर ही खरा नहीं उतर पाया। टी-20 में उनका औसत लगभग 25 का रहा है और स्ट्राइक रेट 121 की। टी-20 करियर में पोंटिंग ने सिर्फ 2 अर्धशतक ही बनाएं है और उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 98 का रहा है।

5 stars failed t-20 format

ये भी पढ़ें

true gentleman rahul dravid

राहुल द्रविड़ हैं एक TRUE GENTLEMAN, इन किस्सों से आप भी मान जाएंगे ये बात

टीम इंडिया के द वॉल ने मौके मौके पर ये साबित किया है कि वो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *