Wednesday , October 16 2019
Home > Crime > बेंगलुरु: सैलरी नहीं मिलने पर कर्मचारियों ने बॉस को किया किडनैप
7-employees-kidnapped-boss-for-not-giving-salary

बेंगलुरु: सैलरी नहीं मिलने पर कर्मचारियों ने बॉस को किया किडनैप

एक नौकरीपेशा इंसान हर महीने के अंत में अपनी सैलरी का इंतजार करता है। कई बार कुछ लोगों को एक-दो महीने सैलरी नहीं मिलती है, जिस कारण वो परेशान हो जाते हैं। लेकिन फिर भी लोग इतना वक्त किसी तरह से गुजार लेते हैं, लेकिन क्या हो जब किसी एंप्लॉई को महीनों से अपनी सैलरी न मिली हो।

बॉस को कर लिया किडनैप

जी हां, कर्नाटक में ऐसा ही कुछ हुआ है। बेंगलुरु में एक प्राइवेट कंपनी में काम करने वाले लोगों का सैलरी के लिए इंतजार काफी लंबा हो गया। जब कई महीने गुजर जाने के बाद भी कंपनी ने अपने एंप्लॉई को सैलरी नहीं दी तो उन्होंने अपने बॉस को ही किडनैप कर लिया। इतना ही नहीं आरोपियों ने अपने बॉस को काफी ज्यादा टॉर्चर भी किया।

Boss kidnap for salary
photo source: Worldatlas

किडनैप बॉस को दोस्त के रूम में रखा

बेंगलुरु पुलिस ने कंपनी के कर्मचारियों को अपने बॉस को किडनैप करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। पुलिस ने कहा कि 23 साल के सुजय एक निजी कंपनी चलाते हैं। उन पर आरोप है कि उन्होंने अपनी कंपनी में काम करने वालों को पिछले सात महीनों से सैलरी ही नहीं दी थी। जिसके बाद उन लोगों ने परेशान होकर 21 मार्च को सुजय को किजनैप कर लिया।

इसमें 7 लोग शामिल है। जिसमें से पुलिस ने 4 को गिरफ्तार कर लिया है। इन सातों ने सुजय को किडनैप कर अपने एक दोस्त के कमरे पर रखा। इस दौरान उन्होंने सुजय के साथ मारपीट भी की और अपनी सैलरी की डिमांड की।

इन लोगों ने सुजय को तभी छोड़ा जब पिछले 7 महीने की सैलरी जल्द से जल्द देने का वादा किया। इसके बाद सुजय ने हलासुरु पुलिस स्टेशन में इन सातों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई और पुलिस ने सात में से चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इन चारों का नाम राकेश, निरंजन, संजय और दर्शन है। जबकि अभी 3 और आरोपियों की तलाश की जा रही है।

cover photo source: security magazin

ये भी पढ़ें

i-have-aids-do-not-rape-me-says-a-woman

एड्स की वजह से रेप होने से बची महिला! क्या सभी के लिए काम आएगा ये तरीका?

महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर में एक महिला ने अपनी समझदारी का परिचय दिया है। इस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *