Wednesday , October 16 2019
Home > Crime > अच्छे व्यवहार से रिहा हो गया था बलात्कारी, जेल से बाहर आने के बाद 9 साल की बच्ची का रेप किया, मार डाला
convicted-child-rapist-released-on-good-behaviour-again-rapes-murders-9-year-old-girl

अच्छे व्यवहार से रिहा हो गया था बलात्कारी, जेल से बाहर आने के बाद 9 साल की बच्ची का रेप किया, मार डाला

6 महीने पहले जेल से बाहर आए एक बच्ची के बलात्कार के दोषी को पड़ोस की 9 साल की बच्ची का अपहरण करने, रेप करने, छेड़खानी करने और उसके शरीर को विले पार्ले (Vile Parle W) में सार्वजनिक शौचालय सेप्टिक टैंक में फेंकने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक, 35 साल के वडिवेल देवेंद्र उर्फ ​​गुंडप्प भाई (Vadivel Devendra) को साल 2013 में मुंबई में अपने पड़ोस में 5 साल की बच्ची के साथ बलात्कार करने के मामले में दोषी ठहराया गया था।

रिपोर्ट के मुताबिक, उसे 2018 की शुरुआत में ‘अच्छे व्यवहार’ के कारण जेल से रिहा कर दिया गया था।

convicted-child-rapist-released-on-good-behaviour-again-rapes-murders-9-year-old-girl

Vadivel Devendra (photo credit TOI)

एक कहावत है न कि ‘कुत्ते की दुम कभी सीधी नहीं होती’, इस व्यक्ति ने इसे साबित कर दिया। देवेंद्र को जिस हैवानियत के लिए जेल भेजा गया था उसने जेल से छूटने के बाद वही गुनाह (रेप) दोहराया।

पुलिस को संदेह तब पैदा हुआ जब एक 9 साल की बच्ची लापता हो गई और देवेंद्र को उसके पीछे जाते हुए कैमरा में देखा गया।

बच्ची अपनी बीमार मां के लिए चाय खरीदने बाहर गई थी। देवेंद्र को उसके पीछे जाते हुए कैमरे ने कैद कर लिया था। लड़की के लापता होने से पहले देवेंद्र को उससे बात करते हुए भी देखा गया।

9 year old Child rape

पीड़िता के माता-पिता दिहाड़ी मजदूर हैं। बच्ची तीसरी कक्षा में पढ़ती थी और देवेंद्र को पड़ोसी के रूप में जानती थी।

आरोप है कि उसने बच्ची को पहले किडनैप किया फिर रेप किया और बाद में उसकी हत्या कर दी। हत्या करने के बाद देवेंद्र ने उसकी बॉडी को विले पार्ले (W) में एक सार्वजनिक शौचालय सेप्टिक टैंक में फेंक दिया।

देवेंद्र पर भारतीय दंड संहिता की धारा 201 (साक्ष्य मिटाना), 302 (हत्या), 363 (अपहरण), 376 (बलात्कार) और POCSO अधिनियम की धारा 4 (भेदक यौन हमला), 8 (यौन उत्पीड़न) और 12 (यौन उत्पीड़न) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

इस खबर से फिर से एक बार भारतीय कानून पर सवाल उठता है कि क्या हमारा कानून इतना कमजोर हो चुका है कि 5 साल की बच्ची के साथ रेप करने के बाद अच्छे व्यवहार के कारण उसे छोड़ दिया जाए? और वो फिर जेल से निकलने के बाद 9 साल की बच्ची के साथ दोबारा रेप करे?

क्या छोटी-छोटी बच्चियों के खिलाफ बना POCSO एक्ट इतना कमजोर है कि किसी को अच्छे व्यवहर पर छोड़ा जा सकता है? क्या देवेंद्र ने ये आखिरी बार हैवानियत किया? छोड़ो क्या फर्क पड़ता है हमारा देश महान तो है ही, हय न?

ये भी पढ़ें

i-have-aids-do-not-rape-me-says-a-woman

एड्स की वजह से रेप होने से बची महिला! क्या सभी के लिए काम आएगा ये तरीका?

महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर में एक महिला ने अपनी समझदारी का परिचय दिया है। इस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *