Wednesday , June 3 2020
Home > Lifestyle > कोरोना वायरस हमेशा के लिए बदल देगी हमारी ये आदतें
कोरोना वायरस

कोरोना वायरस हमेशा के लिए बदल देगी हमारी ये आदतें

बेशक कोरोना वायरस एक महामारी है, जो इस वक्त दुनिया के लिए बहुत बड़ा खतरा बनी है। कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेन्सिंग सबसे जरूरी है। लेकिन कोरोना ने हमारे रहन-सहन से लेकर खाने-पीने जैसी गतिविधियों को बदल दिया है। हम अपनी पुरानी परंपरा नमस्कार को फिर से अपना रहे हैं। तो वहीं दूसरी तरफ डिजिटली एडवांस भी हो रहे हैं। कोरोना की वजह से हमारी सोशल हैबिट्स में बदलाव आ रहा है। जो कि कुछ चीजों में अच्छा भी है, तो चलिए जानते हैं सोशल हैबिट्स में आने वाले इन बदलावों के बारे में –

विश्व में फैल रही नमस्कार की परंपरा

दुनियाभर में लोग कोरोना वायरस से बचने के लिए एक दूसरे से हाथ नहीं मिला रहे हैं, जिसके बदले में लोगों ने एक दूसरे को ग्रीट करने के लिए नमस्ते करना शुरू कर दिया है। इजराइल के प्रधानमंत्री से लेकर डॉनाल्ड ट्रंप समेत दुनियाभर के तमाम नेताओं ने नमस्कार करने की भारतीय परंपरा को अपनाया है और ऐसा करने की नसीहत भी दी है। हालांकि जैसे-जैसे हम मॉडर्नाइजेशन में जाते गए तो हैंड शेक और हग की परंपरा आ गई और नमस्ते की आदत छूट गई।

सेक्सुअल हैबिट्स बदल गई है

कोरोना वायरस के चलेत अब किसिंग, सेक्स एक आम बात नहीं रह गई है। लोग अब किस करने से परहेज करने लगे हैं। साथ ही सेक्स करने से भी डरते हैं। कोरोना वायरस से हाईजीन में तो बदलाव आया ही है साथ ही हमारी सेक्सुअल हैबिट्स में भी बदलाव आ गया है। इससे पहले ऐसा बदलाव सिर्फ एड्स की वजह से ही लोगों में दिखा था।

वर्क कल्चर में हो सकता है बदलाव

कोरोना वायरस

कोरोना वायरस की वजह से पूरा वर्ल्ड बंद है और कंपनियों ने लोगों को वर्क फ्रॉर्म होम करने के लिए कहा है। आज करोड़ों लोग अपने घर से ही काम कर रहे हैं। पहले कंपनियों का मानना होता था कि लोग घर से काम नहीं करते हैं, लेकिन कोरोना की वजह से ये सोच बदल गई है। आज घर से भी लोग काफी ऑर्गेनाइज्ड तरीके से काम कर रहे हैं।

इतना ही नहीं वर्क फ्रॉर्म होम के दौरान जेंडर इक्वालिटी को भी बढ़ावा मिलेगा। वर्कप्लेस में महिलाओं और पुरुषों में काम और सैलरी के मामले में हमेशा से एक तरह का भेदभाव होता रहा है। लेकिन वर्क फ्रॉर्म होम इस फासले को खत्म कर सकता है। वर्क फ्रॉर्म होम जेंडर समानता को बढ़ावा दे रहा है।

ऑनलाइन प्लैटफॉर्म्स बढ़ेंगे

कोरोना वायरस

इतने दिनों से लोगों के घर में होने की वजह से, उनका सबसे बड़ा दोस्त ऑनलाइन प्लैटफॉर्म बन गया है। सब लोग इस वक्त नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम, वूट, हॉटस्टार जैसे प्लैटफॉर्म पर लगे हुए हैं और मूवी से लेकर वेब सीरीज तक देख कर अपना टाइम पास कर रहे हैं। कोरोना वायरस के खत्म होने के बाद भी हो सकता है लोग सिनेमा हॉल जाने की जगह पर घर में ही ऑनलाइन मूवी देखें।

भीड़भाड़ वाली जगहों को करेंगे इग्नोर

कोरोना के बाद से लोग भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने और पब्लिक ट्रांसपोर्ट से बचेंगे। खासतौर पर दिल्ली, मुंबई जैसे शहरों में। अब लोग हो सकता है भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचे। इसके अलावा, क्लब, शादी जैसे समारोह में, जहां पर हजारों की संख्या में भीड़ पहुंचती है, वहां भी जाने से लोग बचेंगे।

ऑनलाइन शॉपिंग हैबिट्स में होगा इजाफा

कोरोना वायरस

अब ऑनलाइन शॉपिंग का मतलब सिर्फ जूते, कपड़े, ज्वेलरी, घड़ी जैसी चीजों तक सीमित नहीं रह गई हैं। क्योंकि लोग मजबूरी में ही सही लेकिन ऑनलाइन शॉपिंग को अपना रहे हैं और इसका असर आने वाले वक्त में जरूर दिखेगा। फूड, ग्रोसरी, दूध जैसी जरूरी चीजों की ऑनलाइन शाॉपिंग में भारी बढ़ोत्तरी दर्ज की जाएगी।

खान-पान और हाइजीन की आदतों में होगा बदलाव

कोरोना ने लोगों को साफ-सफाई और हाइजीन की आदत डाल दी है। भारत में अभी तक हाइजीन के स्टैंडर्ड विकसित देशों जैसे नहीं थे लेकिन, अब इनमें बदलाव आता दिख रहा है। लोगों के खाने-पीने की आदतें भी इस वायरस के साथ बदलेंगी। अब लोग क्वालिटी और हाइजीन वाले खाने को ही तरजीह देंगे। दूसरी ओर, रेस्टोरेंट्स और होटलों को भी अपने हाइजीन स्टैंडर्ड को ऊपर उठाना होगा।

ये भी पढ़ें- Lockdown Period: घर पर टाइम पास कैसे करें ?

ये भी पढ़ें

दांत के दर्द के घरेलू उपाय

दांत के दर्द के 5 घरेलू नुस्खे

दांत का दर्द एक ऐसा दर्द है, जो कि बड़े से बड़े आदमी को हिला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *