Tuesday , August 11 2020
Home > Understand India > COVID-19 के हवा में फैलने से जुड़े जरूरी सवाल!
Covid-19

COVID-19 के हवा में फैलने से जुड़े जरूरी सवाल!

WHO के वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस हवा में भी मौजूद है। कोरोना वायरस के हवा में रहने और इसके फैलने के तरीकों पर रिसर्च के बाद 32 देशों के करीब 239 वैज्ञानिकों ने WHO को एक ओपन लेटर लिखा था। इसमें उन्होंने COVID-19 से जुड़ी अपनी सिफारिशों में बदलाव करने को कहा था।

WHO का कहना है कि नोवल कोरोना वायरस के हवा के जरिए फैलने के सबूत तो मिले हैं, लेकिन अभी ये बात पक्के तौर पर नहीं कह सकते हैं। उन्होंने ये भी कहा कि भीड़भाड़ वाली या कम हवादार जगहों पर हवा के जरिए वायरस फैलने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

अभी तक WHO यही कहता रहा है कि COVID-19 का हवा के जरिए ट्रांसमिशन कुछ मेडिकल प्रक्रियाओं के दौरान ही संभव है, जिसमें एरोसॉल या 5 माइक्रॉन से छोटे ड्रॉपलेट निकलते हैं। हालांकि, नए सबूतों के साथ अब हवा से संक्रमण फैलने (एयरबोर्न ट्रांसमिशन और एरोसॉल ट्रांसमिशन) की संभावना पर भी विचार किया जा रहा है। कोरोना के हवा से फैलने से क्या कुछ बदल सकता है, इससे जुड़े कई सवाल आपके मन में होंगे। तो हम इस पोस्ट के जरिये कोशिश करेंगे की आपके उन सभी सवालों का जवाब दे सकें।

एयरबोर्न ट्रांसमिशन का क्या मतलब है?

इन्फेक्टेड शख्स के खांसने, छींकने या बोलने के दौरान बाहर निकले ड्रॉपलेट से एयरबोर्न ट्रांसमिशन फैलता है। ये ड्रॉपलेट्स अलग अलग साइज के होते हैं। जो ड्रॉपलेट बड़े और भारी होते हैं, वो हवा में दूर तक नहीं जा पाते, बल्कि वो नीचे फर्श पर आ जाते हैं या फिर किसी चीज पर बैठ जाते हैं।

जिस तरह के सबूत WHO को COVID-19 के लिए मिल रहे हैं तो इससे ये माना जा सकता है कि वायरस के ड्रॉपलेट छोटे हो सकते हैं। जिन्हें एरोसॉल कहा जाता है, ये एरोसॉल हल्के होने के नाते हवा में रह सकते हैं। ये एरोसॉल संक्रमित शख्स के सांस छोड़ने या बोलने से भी रिलीज हो सकते हैं और जो भी उस हवा में सांस लेता है, उसे भी संक्रमण हो सकता है।

हवा में कितनी देर तक रह सकते हैं एरोसॉल?

एक्सपर्ट्स का मानना है कि एरोसॉल ज्यादा दूर तक न जाता है या ज्यादा देर तक न रहता हो। लेकिन भीड़ वाली जगह और जहां वेंटिलेशन ठीक से न हो, वो संक्रमण के हॉटस्पॉट हो सकते हैं।

COVID-19 के संक्रमण का कितना खतरा है?

कोई एक संक्रमित इंसान भी वायरस वाले इतने एरोसॉल रिलीज कर सकता है, जो कई लोगों को संक्रमित करने के लिए काफी होते हैं।

खुद को COVID-19 के संक्रमण से कैसे बचाएं?

COVID-19 के संक्रमण से बचाव के हर वो उपाय करिए, जिनकी सलाह दी जाती रही है. जैसे-

  • फेस मास्क का इस्तेमाल
  • आपस में एक-दूसरे से कम से कम 2 मीटर की दूरी
  • अपने हाथ नियमित तौर पर अच्छे से साफ करना
  • एयरबोर्न ट्रांसमिशन को रोकने का मतलब है कि जितना हो सके भीड़ वाली बंद जगह पर जाने से बचा जाए
  • अगर किसी बंद जगह पर रहना हो तो मास्क पहनना न भूलें
  • सुनिश्चित करें कि कमरे में ताजी हवा आती रहे
  • खिड़कियां और दरवाजे जितना हो सके खुला रखें
  • एसी के फिल्टर अपग्रेड कर सकते हैं तो करें
  • स्कूल, ऑफिस, मॉल और स्टोर में वेंटिलेशन सिस्टम में ज्यादा बेहतर नए फिल्टर की जरूरत हो सकती है ताकि हवा रिसर्कुलेट न हो

ये भी पढ़ें

प्लाज्मा थेरेपी क्या है

प्लाज्मा थेरेपी क्या है और कैसे होता है इससे कोरोना वायरस का इलाज?

कोरोना वायरस के केस देश में लगातार बढ़ रहे हैं। देश में कोरोना वायरस से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *