Wednesday , June 16 2021
Home > Women Talk > फक्र है इन क्षेत्रों में देश की पहली महिला के बारे में जानना!
Desh ki pahli mahla

फक्र है इन क्षेत्रों में देश की पहली महिला के बारे में जानना!

ये युग महिलाओं का है, कंधे से कंधा मिलाकर समाज में सिर उठाकर चलाने वाली नारी के आगे हर किसी का सिर झुकता है। मां, पत्नी, बहन, बेटी के रूप में नारी को हमेशा जाना जाता रहा है, लेकिन अब नारी को सीईओ, खिलाड़ी, नेता के रूप में भी जाना जाता है। आज इस आर्टिकल में हम विभिन्न क्षेत्रों में देश की पहली महिला के बारे में जानेंगे। इन महिलाओं ने अलग क्षेत्रों में पहली बार अपनी पहचान दर्ज कराई और सबको अपनी काबिलियत का परिचय दिया।

देश की पहली महिला जो रच सकी इतिहास

अलीशा अब्दुल्ला – देश की पहली महिला F1 – रेसर

देश की पहली महिला
अलीशा अब्दुल्ला

भारत की पहली और एकमात्र महिला सुपरबाइक रेसर अलीशा, 8 साल की उम्र से रेसिंग कर रही है। वो सबसे फास्ट इंडियन वुमन कार रेसर भी हैं। जब अलीशा 18 साल की हुई तब उनके पिता ने उन्हें 600सीसी सुपरबाइक दी और तभी से इनका काम शुरू हो गया।

25 साल की उम्र में रेसिंग ट्रैक पर 13 साल बिताने के बाद अलीशा ने कई अवॉर्ड भी जीतें। जिसमें एम.आर.एफ. राष्ट्रीय गो- कार्टिंग चैंपियनशिप और खुली श्रेणी में राष्ट्रीय स्तर की फॉर्मूला कार रेसिंग में बेस्ट नोविस अवार्ड शामिल है। आगे चलकर अलीशा ने फॉर्मूला कार रेसिंग शुरू की और जेके टायर नेशनल चैंपियनशिप 2004 में पांचवा स्थान प्राप्त किया।

देश की सबसे अमीर महिला

अंशु जमसेनपा – देश की पहली महिला जो 5 बार माउंट एवरेस्ट पर चढ़ी

देश की पहली महिला
अंशु जमसेनपा

अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी कामेंग जिले के बोम्डीला की रहने वाली अंशु, एक भारतीय पर्वतारोही (mountaineer) हैं। अंशु ने मई 2017 में पर्वतारोहण के क्षेत्र में 2 विश्व रिकॉर्ड और एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया। 5 दिन में दो बार और विश्व की सबसे तेज महिला पर्वतारोही बनी। अंशु 5 बार माउंट एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचने वाली विश्व की पहली भारतीय महिला है।

Sexual Assault हुई महिलाओं के कपड़ों से इस महिला ने बनाया एक म्‍यूजियम…

आयशा अजीज – सबसे युवा महिला पायलट

देश की पहली महिला
आयशा अजीज

लड़ाकू विमान उड़ाने वाली देश की सबसे कम उम्र की महिला पायलट बनी आयशा अजीज। जिन्होंने साल 2011 में महज 16 साल की उम्र में ही हाईस्कूल की पढ़ाई के दौरान ही स्टूडेंट पायलट का लाइसेंस हासिल कर लिया था और वो देश की सबसे कम उम्र की पायलट बन गई थीं।

इसके बाद 21 साल की उम्र में उन्हें कमर्शियल पायलट का लाइसेंस मिला और अब आयशा जेट मिग 29 विमान उड़ाने की तैयारी में हैं। इस बारे में रूसी एजेंसी से उनकी बातचीत जारी है और एजेंसी के सहयोग से अगर वे मिग 29 विमान उड़ाती हैं, तो रूस के सोकूल (Sokol) एयरबेस से उड़ान भरकर वे देश की सबसे युवा महिला पायलट कहलाएंगी।

WhatsApp पर ट्रेनिंग लेती थी ये हिजाब गर्ल और बन गई बॉडीबिल्डिंग चैंपियन…

दीपा मलिक – देश की पहली महिला जो पैरालिम्पिक्स में पदक जीत सकी

देश की पहली महिला
दीपा मलिक

शॉटपुट और जेवलिन थ्रो के साथ-साथ स्विमिंग, मोटर रेसलिंग से जुड़ी एक विकलांग भारतीय खिलाड़ी दीपा मलिक। दीपा भारत की पहली पैरा एथलीट है जिन्होंने पैरा ओलंपिक रियो 2016 में पदक जीता और लगातार 5 सालों तक जैवलिन थ्रो में एशिया का रिकॉर्ड बनाए रखा। 30 साल की उम्र में तीन ट्यूमर सर्जरीज और शरीर का निचला हिस्सा सुन्न हो जाने के बावजूद उन्होंने न केवल शॉटपुट और ज्वलीन थ्रो में राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में पदक जीते हैं, बल्कि स्विमिंग और मोटर रेसलिंग की कई प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया।

वो भारत की पहली महिला हैं जिन्हें हिमालय कार रैली में आमंत्रित किया गया। साल 2008 और 2009 में उन्होंने यमुना नदी में स्विमिंग और स्पेशल बाइक राइड में भाग लेकर दो बार लिम्का बूक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया।

17 साल की उम्र में खो बैठी थी अपना एक पैर, फिर भी नहीं छोड़ा डांस का साथ…

भक्ति शर्मा – अंटार्कटिक महासागर में स्विमिंग करने वाली पहली भारतीय महिला

देश की पहली महिला
भक्ति शर्मा

खुले पानी में स्विमिंग करने वाली भक्ति शर्मा पहली महिला है। इन्होंने अंटार्कटिका के पानी में सबसे लंबी दूरी (2.28 किलोमीटर) की स्विमिंग की और विश्व रिकॉर्ड बनाया। ऐसा करने वाली भक्ति एशिया से पहली तैराक और विश्व की सबसे युवा तैराक भी बनी। 21 साल की कड़ी मेहनत के बाद इन्होंने सभी पांच महासागरों (हिंद महासागर, अटलांटिक महासागर, प्रशांत महासागर, आर्कटिक महासागर और अंटार्कटिक महासागर) और सात समुंद्र में स्विमिंग करने का इतिहास रचा।

ये भी पढ़ें

mothers-day-best-shayari-munawwar-rana-on-maa

Mother’s Day: मां पर मुनव्वर राना के दिल छू लेने वाले 25 शेर

12 मई को मदर्स डे है, ऐसा माना जाता है या लोग कहते हैं। लेकिन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *