Thursday , July 1 2021
Home > Understand India > जस्टिस इंदिरा बनर्जी पहुंची सुप्रीम कोर्ट, पहली बार देश में तीन महिला ‘सुप्रीम’ जज
indira-banerjee-supreme-court-8th-female-judge

जस्टिस इंदिरा बनर्जी पहुंची सुप्रीम कोर्ट, पहली बार देश में तीन महिला ‘सुप्रीम’ जज

मद्रास हाई कोर्ट की चीफ जस्टिस रही इंदिरा बनर्जी (Indira Banerjee) ने आज सुप्रीम कोर्ट के जज के रूप में एक समारोह में शपथ ग्रहण किया। इंदिरा बनर्जी ने पहले नंबर पर शपथ ग्रहण किया जबकि विनीत सरन ने दूसरे नंबर पर और उत्तराखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रहे केएम जोसेफ  (K. M. Joseph) ने तीसरे नंबर जज के तौर पर कार्यभार संभाला।

आपको बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट के जजों की नियुक्ति के दौरान लंबे समय तक जस्टिस K.M. जोसेफ की नियुक्ति का मामला सुर्खियों में था। सरकार और कॉलेजियम (सिस्टम) के बीच काफी समय तक चले मतभेद के बाद सरकार ने जोसेफ की नियुक्ति पर पिछले हफ्ते मुहर लगायी थी। हालांकि सुप्रीम कोर्ट के जज के रूप में शपथ लेने वाले तीन जजों में जस्टिस जोसेफ तीसरे स्थान पर हैं।

इस बीच, एक नाम और है जो न्यायपालिका इतिहास में हमेशा के लिए दर्ज हो गया और वह नाम है महिला जज इंदिरा बनर्जी का… हम इतिहास इसलिए कह रहे हैं क्योंकि यह देश में पहला मौका है जब देश की सर्वोच्च न्यायालय में तीन महिला जज (जस्टिस R भानुमति, जस्टिस इंदु मल्होत्रा और जस्टिस इंदिरा बनर्जी) एक साथ हैं।

 

जस्टिस इंदिरा बनर्जी का सुप्रीम कोर्ट तक का सफर

BBC की रिपोर्ट के मुताबिक, इंदिरा बनर्जी का जन्म साल 1957 में 24 सितंबर को हुआ। इंदिरा ने अपनी शुरुआती पढ़ाई कोलकाता के लोरेटो हाउस से की और कोलकाता के ही प्रसिद्ध प्रेसिडेंसी कॉलेज से ग्रेजुएशन किया। चूंकि उन्हें लॉ में करियर बनाना था इसलिए इंदिरा बनर्जी ने फिर कोलकाता लॉ यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया।

साल 1985 में जुलाई महीने में इंदिरा वकील बनने के बाद कोलकाता में ही निचली अदालत और हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू कर दीं। आपराधिक केस को छोड़कर उन्होंने दूसरे सभी केस लड़े हैं। इंदिरा ने कई वर्षों तक वकील के तौर पर सेवा देने के बाद साल 2002 में 5 फरवरी को कोलकाता हाईकोर्ट की स्थायी जज बन गईं।

इंदिरा साल 2016 में दिल्ली हाई कोर्ट आई और फिर साल 2017 में 5 अप्रैल को मद्रास हाई कोर्ट की चीफ जस्टिस के तौर पर कार्यभार संभाल लिया। वहां से निकलकर अब जस्टिस इंदिरा बनर्जी सुप्रीम कोर्ट की जज बनने वाली आठवीं महिला बन गई हैं। इंदिरा का सुप्रीम कोर्ट में कार्यकाल 4 साल और 1 महीने का होगा।

 

एकसाथ तीन महिला जज

जानकारी के लिए बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की पहली महिला जज फातिमा बीबी रही हैं। वहीं, मौजूदा समय में जस्टिस R. भानुमति और इंदु मल्होत्रा के साथ अब इंदिरा बनर्जी भी सुप्रीम कोर्ट में जज हैं। इंदिरा से तीन महीने पहले इंदु मल्होत्रा ने वरिष्ठ वकील से सुप्रीम कोर्ट के जज तक का सफर तय किया था। इंदु मल्होत्रा बार काउंसिल से सीधे जज बनने वाली पहली महिला हैं। अब बात करें सुप्रीम कोर्ट में मौजूदा वक्त में तीसरी महिला जज की तो वो R. भानुमति हैं जो साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट की जज बनी थी। सुप्रीम कोर्ट से पहले वह झारखंड के चीफ जस्टिस के तौर पर रही हैं।

 

ये भी पढ़ें

World Cancer Day

World Cancer Day : वो कैंसर जो लोगों में हैं सबसे कॉमन!

World Cancer Day हर साल 4 फरवरी को मनाया जाता है। इसका मकसद पूरी दुनिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *