Tuesday , May 26 2020
Home > Understand India > जानिए ‘ओडिशा के मोदी’ के बारे में, जो बनना चाहते थे साधू
ओडिशा के मोदी के नाम से सुर्खियां बटौरने वाले प्रताप चंद्र सारंगी

जानिए ‘ओडिशा के मोदी’ के बारे में, जो बनना चाहते थे साधू

ओडिशा की बालासोर लोकसभा सीट से चुनाव जीते प्रताप चंद्र सारंगी (Pratap Chandra Sarangi), इस बार नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में शामिल हुए हैं। एकदम साधारण सी वेशभूषा पहनने वाले और सामान्य जनजीवन जीने वाले प्रताप सारंगी चुनाव जीतने के बाद से ही काफी चर्चा में रहे हैं। उन्हें ‘ओडिशा का मोदी’ भी कहा जा रहा है। साथ ही नरेंद्र मोदी भी जितनी बार ओडिशा जाते हैं वो सारंगी से जरूर मिलते हैं। प्रताप चंद्र सारंगी की अगर पहचान करनी है तो उनकी सफेद दाढ़ी, सिर पर सफेद कम बाल, साइकिल और बैग से की जा सकती है।

सांसद चुने जाने से पहले ओडिशा के नीलगिरी विधानसभा से 2004 और 2009 में सारंगी विधायक भी रहे हैं। इससे पहले वो साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी लड़े थे, लेकिन तब वो जीत नहीं सके थे। प्रताप सारंगी को नरेंद्र मोदी का करीबी माना जाता है। एक गरीब परिवार से ताल्‍लुक रखने वाले प्रताप चंद्र सारंगी का जन्‍म नीलगिरी में ही गोपीनाथपुर गांव में हुआ।

ट्रेन में कितने किलो तक फ्री ले जा सकते हैं सामान? बहुत कम लोग जानते हैं ये नियम

बचपन में साधु बनना चाहते थे प्रताप चंद्र सारंगी

सारंगी ने स्‍थानीय फकीर मोहन कॉलेज से ग्रेजुएशन की। बचपन से ही प्रताप सारंगी बहुत आध्‍यात्‍मि‍क रहा करते थे। ओडिशा के मोदी तो एक वक्त में रामकृष्‍ण मठ में साधु बनना चाहते थे। इसके लिए वो कई बार मठ गए भी थे लेकिन जब मठ वालों को खबर लगी कि प्रताप सारंगी की मां एक विधवा हैं तो उन्‍हें मां की सेवा करने के लिए कहा गया।

जिसके बाद प्रताप चंद्र सारंगी गांव लौट आए और उन्‍होंने समाजसेवा करनी शुरु कर दी। बालासोर और मयूरभंज के आदिवासी इलाकों में कई स्‍कूल बनवाए हैं। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में प्रताप सारंगी ने जो चुनावी हलफनामा भरा था, उसके मुताबिक उनकी कुल संपत्त‍ि तब करीब 10 लाख रुपये की थी।

बीजेडी के रबिन्द्र कुमार जेना को चुनाव में हराया

आपको बता दें कि ओडिशा के मोदी प्रताप चंद्र सारंगी ने बीजेडी के रबिन्द्र कुमार जेना को 12,956 वोटों से हराया है।

ये भी पढ़ें

लॉकडाउन, सीलिंग और कन्टेनमेंट जोन में अंतर क्या है?

देश में कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन, सील जैसी कई चीजें की गई हैं। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *