Friday , December 14 2018
Home > Understand India > 11000 करोड़ के घोटाले में देश के ‘चौकीदार’ से हुई चूक!

11000 करोड़ के घोटाले में देश के ‘चौकीदार’ से हुई चूक!

देश के दूसरे सबसे बड़े बैंक में 11000 हजार करोड़ से बड़ा घोटाला सामने आया है, कहा जा रहा है कि ये अब तक के इतिहास का सबसे बड़ा बैंकिग घोटाला है। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) की मुंबई स्थित एक शाखा में 11,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के घोटाले का मामला सामने आया है। बैंक ने इस घोटाले की पुष्टि भी की है। इस संबंध में बैंक ने अपने 10 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है और 13 फरवरी को मामले की शिकायत CBI से की है।

 

दिलचस्प बात ये है कि इस पूरे घोटाले का खुलासा खुद PNB ने ही किया। बैंक की तरफ से कहा गया कि उसने 1.77 अरब डॉलर (करीब 11,400 करोड़ रुपये) के घोटाले को पकड़ा है। इस मामले में अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी (Nirav Modi) ने कथित रूप से बैंक की मुंबई शाखा से फर्जी गारंटी पत्र (LOU) हासिल कर अन्य भारतीय ऋणदाताओं से विदेशी ऋण हासिल किया।

 

Nirav-Modi-pnb-scams-11000

 

एक अजीब और हास्यासपद सी कोशिश की जा रही है। दरअसल इतने बड़े घोटाले को सरकार अकेले संभाल नहीं पा रही शायद इसीलिए इसकी जिम्मेदारी पुरानी सरकार और RBI के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन पर डालने की तैयारी की जा रही है। कहा जा रहा है कि घोटाले की शुरूआत 2011 में हुई थी और तब देश में UPA की सरकार थी और उस समय RBI के गर्वनर रघुराम राजन थे, लेकिन एक कागज के टुकड़े ने इस दावे की हवा निकाल दी, जिसमें साफ-साफ दर्ज है कि 2011 से 2017 के बीच करीब 150 LOU यानि लेटर ऑफ अंडरटेकिंग जारी हुई है और इनमें से सबसे ज्यादा 2017-18 में जारी की गई है।

LOU-Nirav-Modi-fraud

LoU (letters of undertaking) वह पत्र है होता है जिसके आधार पर एक बैंक के जरिए अन्य बैंकों को एक तरह से गारंटी पत्र उपलब्ध कराया जाता है जिसके आधार पर विदेशी शाखाएं ऋण (Loan) की पेशकश करती हैं।

 

अब इतना बड़ा घोटाला हुआ है तो विपक्ष भी सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस के नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर सवाल उठाया है। कांग्रेस नेता ने केंद्र पर हमला बोलते हुए कहा कि “‘लूटो और भाग जाओ’ मोदी सरकार का चाल, चरित्र और चेहरा बन गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जुलाई, 2016 में ही वित्‍तीय फर्जीवाड़े की जानकारी दी गई थी, इसके बावजूद क्‍या मोदी सरकार सोई हुई थी? “

 

वहीं दूसरी तरफ BJP ने भी कांग्रेस पर पलटवार किया। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस मामले की जांच हो रही है और इसमें किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कांग्रेस की सरकार में हुए भ्रष्टाचार की याद दिलाई। उन्होंने कहा कि ‘जिनके घर ऐसे शीशे के हों जो टुकड़े-टुकड़े हो चुके हैं वो दूसरों पर पत्थर फेंकना बंद करें’।

 

दरअसल होता यही है कोई भी बड़ा घोटाला होता है तो जिसकी सरकार में होता है वो विपक्ष के घोटाले की याद दिलवाता है और विपक्ष सरकार के घोटाले की याद… इस बहाने दोनों के गुनाह छिपाने का काम किया जाता है। लेकिन सरकार को जबाव तो देना ही होगा क्योंकि जिन नीरव मोदी (Nirav Modi) पर घोटाले का आरोप हैं वो दावोस (Davos summit) में PM मोदी के साथ तस्वीरों में नजर आ रहे हैं।

 

PM मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान जनता से मांग की थी कि एक बार देश की अवाम 60 महीनों के लिए उन्हें देश का चौकीदार बनाए। तो जनता ने उनकी सुनी और उन्हें PM की कुर्सी दिलाकर अपना वादा पूरा किया था। अब PM मोदी की बारी है। तो क्या उम्मीद की जाए कि PM नरेंद्र मोदी पूर्वोत्तर के राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए की जाने वाली रैलियों में इस घोटाले का न सिर्फ जिक्र करेंगे, बल्कि अपनी इस चूक को मानते हुए आरोपी को जल्द से जल्द सजा दिलाएंगे!

 

नोट: इस लेख को Saurabh Yadav ने हमारे प्लेटफॉर्म पर लिखा है और पेशे से ये एक पत्रकार हैं।  यदि आप भी कुछ लिखना चाहते हैं तो फेसबुक पर मैसेज में या theindianclick@gmail.com पर हमें मेल भेज सकते हैं।

ये भी पढ़ें

Atal Bihari Vajpayee age 10 unseen pics facts

अटल बिहारी वाजपेयी की 10 दुर्लभ तस्वीरें और रोचक तथ्य

भारत के 93 साल (उम्र) के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अब इस दुनिया में नहीं रहे। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *