Wednesday , December 19 2018
Home > Women Talk > Women Talk: पीरियड्स के दौरान पॉर्न देखने वाली लड़कियों के लिए नया ऑफर
pornhub-period

Women Talk: पीरियड्स के दौरान पॉर्न देखने वाली लड़कियों के लिए नया ऑफर

पीरियड्स यानी हिन्दी में बोले तो महावारी पर अक्षय कुमार की ‘पैडमैन’ नाम से अगले महीने फिल्म आने वाली है। हालांकि ये फिल्म सेनेटरी नैपकिन के लिए जागरूकता और लोगों की सोच पर बनी है जबकि हम पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द पर बात कर रहे हैं।

हमारे देश में लोग न पीरियड्स (फला दिन चल रहा है, वो दिन चल रहा है, पर्सनल प्रॉब्लम है) को लेकर जागरूक हैं न महिलाओँ में हस्तमैथुन यानी मास्टरबेशन को लेकर सजग है। इन दोनों को एकसाथ सोचना भी मुश्किल है। लेकिन पॉर्नहब ने आगे बढ़ते हुए एक नया कैंपेन शुरू कर दिया है।

पॉर्नहब के मुताबिक एक अच्छा ऑरगैजम (चरमतोत्कर्ष) पीरियड को छोटा कर सकता है, पीरियड में होने वाले दर्द और मूड स्विंग्स के दौरान मदद कर सकता है। बस इसी बात को ध्यान में रखते हुए पॉर्नहब वेबसाइट ने ‘F*ck Your Period‘ कैंपेन शुरू किया है। इस कैंपेन के तहत कंपनी महिलाओं को मास्टरबेट करने के लिए बढ़ावा देगी और साथ ही पीरियड्स के दौरान महिलाओं को पॉर्नहब की प्रीमियम सर्विस फ्री मिलेगी।

तो यदि आप ये सर्विस चाहती हैं, तो आपको www.pornhub.com/fuckyourperiod पर जाना होगा। यहां आपको पीरियड के वक्त (menstrual cycle) के बारे में कुछ सवाल का जवाब देना पड़ेगा ताकि आपके आने वाले पीरियड का वक्त और ड्यूरेशन के बारे में जानकारी दी जा सके, ये कुछ-कुछ वैसा ही है जैसे पीरियड ट्रैकिंग एप पर होता है। इसके बाद जब आपको पीरियड आएगा, तब आपको पॉर्नहब द्वारा एक मेल भेजा जाएगा। इस मेल में प्रीमियम सर्विस का एक्सेस होगा, जोकि पीरियड के दौरान काम करता रहेगा।

वैसा देखा जाए तो पॉर्न देखे बिना भी मास्टरबेट किया जा सकता है, लेकिन यदि अच्छी क्वालिटी की पॉर्न हो तो काम थोड़ा आसान हो जाता है।

पॉर्नहब की ब्रैंड मैनेजर एलैग्जैंड्रा  क्लीन का कहना है कि इस कैंपेन के जरिए पीरियड्स के दौरान मास्टरबेशन और सेक्स से जुड़ी शर्म कुछ कम होगी। ब्रिटिश अखबार मेट्रो की वेबसाइट पर एलैग्जैंड्रा का एक बयान है, जिसमें वो कहती हैं, “औरतों को पीरियड्स के दौरान मास्टरबेशन को लेकर सोच में पड़ने की जरूरत नहीं है। कई महिलाए पीरियड्स के दौरान सेक्स के बारे में आपस में बात कर लेती हैं, पीरियड का मजाक तक बना लेती हैं। हम साल 2018 में जी रहे हैं, ये एक ऐसी चीज है जिसे हर कोई जानता है, इसलिए इसे जुबां पर लाने का आत्मविश्वास भी हर किसी में होना चाहिए”

ये भी पढ़ें

international-women-day-2018-women-are-fighting-for-their-rights

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस: 70% महिलाओं को सेक्स या इससे जुड़े मामले तय करने का अधिकार नहीं

देश हो या दुनिया महिलाएं कहीं भी पुरुषों से कम नहीं हैं। अब महिलाएं हर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *