Wednesday , December 19 2018
Home > Lifestyle > आज बहुत लंबे-लंबे वादें किए ना, अब जरा खुद से भी ये वादें कर लो
promise day

आज बहुत लंबे-लंबे वादें किए ना, अब जरा खुद से भी ये वादें कर लो

आज वैलेंटाइन वीक का पांचवा दिन था। जिसे प्रॉमिस डे के नाम से मनाया जाता है। तो जाहिर सी बात है कि आज सभी प्यार में डूबे हुए कप्लस ने बहुत लंबे-लंबे और प्यार भरे वादें किए होंगे। कुछ ने तो ये वादें तक किए होंगे कि अपनी जिंदगी से बढ़ कर तुम्हें मानूंगा या मानूंगी। लेकिन क्या आप लोगों ने खुद से कोई वादा नहीं किया। क्या ऐसा वादा आज के दौर में पूरा हो सकता है कि कोई अपनी जिंदगी से ज्यादा किसी को मानें। खैर ये तो अलग बात है और इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा।

लेकिन आज के इस आर्टिकल के जरिए मैं सबसे ये जरूर कहना चाहूंगा या फिर अपील करना चाहूंगा कि आपने अपने साथी से जो वादे किए वो तो ठीक हैं और उन्हें सच्चे मन से और अपनी हर कोशिश लगा कर उन्हें पूरा करना। लेकिन आप खुद से भी कुछ वादें किजिए ऐसे वादें जो न केवल पार्टनर, बल्कि हर रिश्ते को मजबूत बनाए।

वैसे तो खैर ऐसा कहा जाता है कि न तो कोई अंसान परपेक्ट होता है और न कोई भी रिश्ता। लेकिन उसे परफेक्ट बनाया जा सकता है। रिश्ता चाहे जो भी हो और जिसके साथ भी हो उन्हें सलामत रखना बेहद जरूरी होता है। हर रिलेशन की अपनी जरूरतें और अपनी परेशानियां होती हैं। और उनके लिए हमारी कुछ जिम्मेदारियां भी होती है जो हर रिश्ते में अलग होती है। इसलिए अपने साथी से वादा करने के बाद आज आप खुद से ये वादें जरूर करें।

1- हर रिश्ते को अहमियत देने का वादा

ऐसा अक्सर होता है कि जब भी हम किसी से प्यार कर बैठते हैं और एक लव रिलेशनशिप में आ जाते हैं तो हमारा ज्यादा से ज्यादा ध्यान अपने पार्टनर पर चला जाता है। और जाने-अनजाने में भी हम अपने दोस्त और परिवारवालों को नजरअंदाज कर देते हैं। उनके साथ वक्त बिताना कम हो जाता है। और ये भूल जाते हैं कि सामने वाला शख्स हमारे से क्या उम्मीद रखता है। आप उसे ये भी बताएं कि इस रिश्ते की आपके लिए क्या अहमियत है। और हर रिश्ते को बैलेंस कर साथ ले कर चलें।

2- अपनी हर ख्वाहिशों का भार दूसरों पर न थोपने का वादा

इस बात को तो आप चाहे कहीं पर अलग से लिख कर रख लिजिए कि आपका पार्टनर आपकी या रिश्ते की तमाम जरूरतें पूरी नहीं कर सकता है। अगर आप ये बात मान लेंगे तो आप दोनों के बीच बेफिजूल के मनमुटाव की गुंजाइश नहीं होंगे।

3- हर रिश्ते में एडजस्ट करने की इमानदार कोशिश करने का वादा

अगर किसी रिश्ते से आप खुश होते हैं तो उसकी सफलता की जिम्मेदारी आप पर ही निर्भर है। इसलिए चाहे रिश्ता सास-बहू का हो या फिर मां-बेटे का या फिर दोस्तों का हो या प्यार का, हर रिश्ते में एडजस्टमेंट और कॉम्प्रोमाइज जरूरी होता है। और इससे आप छोटे नहीं हो जाते हैैं। बल्कि आपका रिश्ता मजबूत होता है।

ये भी पढ़ें

male sexual issues

अगर पुरुष करते हैं ये चीजें तो इन्हें तुरंत कर दें बंद, मर्दानगी के लिए हैं खतरा…

आजकल के लाइफस्टाइल में और जिस तरह से सब लोग गलत खाने पीने की आदतों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *