Sunday , November 18 2018
Home > Understand India > 0.7 % था काला धन? नोटबंदी में बंद किए गए नोटों में से 99.3 प्रतिशत बैंकों के पास वापस लौटे: RBI
RBI demonetization 93.3 percent scrapped money returns to Bank

0.7 % था काला धन? नोटबंदी में बंद किए गए नोटों में से 99.3 प्रतिशत बैंकों के पास वापस लौटे: RBI

नवंबर 2016 को जब नोटबंदी हुई तो पूरे देश में खलबली मच गई। सभी बैंकों के बाहर आम जनता भूखे प्यासे कई-कई घंटे तक लाइन में खड़े होने लगे। कितनों की मौत भी हुईं और कितनों ने आत्महत्या भी किए। इस नोटबंदी को मोदी सहित पूरी केंद्र सरकार ने कहा कि ये काले धन पर सर्जिकल स्ट्राइक है। वहीं, विपक्ष ने कहा कि ये देश की बेगुनाह जनता पर मोदी सरकार द्वारा गिराया गया बम है।

भारत में नोटबंदी से कितना काला धन पकड़ा गया और देश कितना मजबूत हुआ ये कई रिपोर्ट्स से जगजाहिर था। लेकिन अब RBI ने आधिकारिक तौर पर कह दिया है कि नोटबंदी के बाद 99.3 प्रतिशत पैसा बैंक में वापस आ गया है।

न्यूज एंजेसी PTI के मुताबिक, भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने नोटबंदी पर रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2016 में 500 और 1000 रुपये के बैन किए नोट वापस बैंक में आ गए हैं। RBI की रिपोर्ट में कहा गया है कि नोटबंदी के दौरान 15.41 लाख करोड़ बाजार में सर्कुलेशन में था, जिसमें से 15.31 लाख करोड़ वापस आ गया है। बैंकों में आए नोटों की सत्यता की जांच का काम भी पूरा हो चुका है।

आपको याद दिलाने की शायद जरूरत नहीं कि मोदी सरकार ने नोटबंदी के दौरान 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बाजार में चलन से बाहर कर दिया था। इसकी जगह सरकार ने 500 और 2000 रुपये के नये नोट जारी किए थे।

 

नये नोट छापने में खर्च किए गए 7965 करोड़ रुपये
PTI की रिपोर्ट के मुताबिक, नोटबंदी के बाद साल 2016-2017 में RBI ने 500 और 2000 रुपये के नये नोट और दूसरे मूल्य के नोटों की छपाई पर 7,965 करोड़ रुपये खर्च किए। ये खर्च उससे पिछले साल खर्च की गई 3421 करोड़ रुपये की रकम के दोगुने से अधिक है। वहीं, साल 2017-2018 (जुलाई 2017 से जून 2018) के दौरान RBI ने नोटों की छपाई पर 4912 करोड़ रुपये और खर्च किए गए।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का कहना है कि पिछले साल की तुलना में 100 रुपये के जाली नोट 35 प्रतिशत अधिक बढ़ गए हैं या यूं कहे कि पकड़े गए हैं। वहीं, 50 रुपये के नकली नोटों की संख्या में 154.3 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

 

नकली नये नोट भी बाजार में आ चुके हैं
नये नोट जब जारी किए गए थे तब सरकार की तरफ से कहा गया था कि नये 500 और 2000 रुपये के नकली नोटों को बनाना आसान नहीं होगा। लेकिन रिपोर्ट कुछ और ही कहती है। RBI की ओर से कहा गया है कि साल 2017-2018 में नए 500 रुपये के नोट की 9892 जाली इकाइयां  (49,46000 लाख रुपये) पकड़ी गईं। वहीं, 2000 रुपये के नोट की 17929 जाली इकाइयां (3,58,58000 रुपये)  पकड़ी गईं। साल 2016-2017 में यह आंकड़ा (500 के नोट) 199 और (2000 के नोट) 638 था।

 

विपक्ष ने कहा कि माफी मांगे मोदी सरकार
कांग्रेस ने RBI की रिपोर्ट आने के बाद प्रधानमंत्री को आम जनता से माफी मांगने को कहा है। वहीं, कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली (Veerappa Moily) की अध्यक्षता वाली संसद की स्थायी समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि नोटबंदी की वजह से GDP में कम-से-कम 1% की कमी आई और असंगठित क्षेत्र में बेरोजगारों की संख्या बढ़ी है।

 

रुपया में ऐतिहासिक गिरावट, पेट्रोल के दाम आसमान पर
तब के गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 लोकसभा के चुनाव में कांग्रेस को रुपये में गिरावट को लेकर खूब कोसते थे। अब हाल ये है कि जो रुपया मोदी सरकार बनने पर लगभग 59 रुपये = 1 डॉलर था वो आज ऐतिहासिक रुप से 70 रुपये 57 पैसे हो चुका है। मतलब सरकार किसी का भी हो रुपये गिरता ही रहा है।

Modi Tweet on falling rupees 2013

बाबा रामदेव का एक 2014 आम चुनाव में BJP के प्रचार वाला वीडियो खोजिएगा। इंडिया टीवी के शो आप की अदालत में रामदेव ने कहा था कि पेट्रोल 70 रुपये लीटर चाहिए या 35 रुपये… अगर 35 रुपये लीटर चाहिए तो मोदी को वोट दीजिए। आज आपको बताने की जरूरत नहीं देश में पेट्रोल का भाव क्या है।

ये भी पढ़ें

Humor: मिलिए अर्थशास्त्री, विचारक, इतिहासकार और त्रिपुरा के महाज्ञानी CM बिप्लब देब से

अमित शाह ने बैंक में जमा करवाए 745 करोड़ पुराने नोट

कौन है वो युवा साध्वी, जिसके 22 की उम्र में 10 लाख से ज्यादा हैं फॉलोअर्स?

इलेक्ट्रीशियन के बेटे को मिला अमेरिका से 70 लाख रुपये का पैकेज

बीवी पूरे दिन बदलती है वॉट्सएप DP, पुलिस के पास पहुंचा पति

 

by Vibek Dubey

ये भी पढ़ें

atal-bihari-vajpayee-passed-away-death-age

भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी ने किया दुनिया को अलविदा, जानिए राजनीतिक सफर

भारत के तीन बार प्रधाममंत्री रह चुके 93 साल (उम्र) के अटल बिहारी वाजपेयी अब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *