Wednesday , June 30 2021
Home > Understand India > 12th या BA पास: क्या है स्मृति ईरानी की क्वालिफिकेशन, समझे पूरा विवाद!

12th या BA पास: क्या है स्मृति ईरानी की क्वालिफिकेशन, समझे पूरा विवाद!

मोदी सरकार में हमेशा चर्चा का विषय बने रहने वाली स्मृति ज़ुबिन ईरानी (Smriti Irani) एक बार फिर से अपने सालों पुराने विवाद में फंस गई है। मोदी सरकार में पहले शिक्षा और मौजूदा कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी एक बार फिर से अमेठी से राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रही है। लेकिन जब उन्होंने अपना नामांकन दर्ज कराया तो फिर से उनकी शिक्षा के गड़े मुर्दे जिंदा हो गए।

अमेठी से नामांकन के लिए भरे गए शपथ पत्र में उन्होंने अपनी एजुकेशन क्वालिफिकेशन (शैक्षिक योग्यता) का भी जिक्र किया। इसमें ईरानी ने खुलासा किया कि उन्होंने दिल्ली दिल्ली यूनिवर्सिटी से पहले साल बैचलर ऑफ कॉमर्स यानी B.com के लिए अपनी परीक्षा दी थी, लेकिन 3 साल का डिग्री कोर्स पूरा नहीं किया था।

क्या कहता है हलफनामा (एफिडेविट)

स्मृति के हलफनामे के मुताबिक उन्होंने साल 1991 में हाईस्कूल और साल 1993 में इंटरमीडिएट पास किया। इसके बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग में 1994 में B.com के 3 साल ग्रेजुएट में प्रवेश लिया लेकिन ये पढ़ाई वो पूरी नहीं कर सकी। अब सवाल ये है कि क्या स्मृति ईरानी ने यही जानकारी पहले भी दी थी। तो इसके लिए हम आपको बताते हैं कि स्मृति ईरानी ने पिछले चार हलफनामों में क्या जानकारी दी थी।

कब शुरु हुआ स्मृति ईरानी डिग्री विवाद

स्मृति ईरानी ने पहले 2017, 2014, 2011 में जो हलफनामा भरा था, उसमें उन्होंने यही लिखा था कि वो बी कॉम का फर्स्ट ईयर तक पढ़ी है। लेकिन साल 2004 के हलफनाम में बवाल खड़ा हुआ था। स्मृति ईरानी ने 2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान दिए गए हलफनामे में नामंकन करते वक्त अपनी एजुकेशन क्वालिफिकेशन के बारे में जो जानकारी दी थी, उसके मुताबिक स्मृति ने 1996 में डीयू से ओपन स्कूल से BA पूरा किया था।

साल 2004 में दिल्ली के चांदनी चौक इलाके से लोकसभा चुनाव लड़ते वक्त उन्होंने कहा था कि वो बीए पास है। लेकिन साल 2014 में उन्होंने जब अमेठी से अपना नामांकन भरा तो अपनी एजुकेशन क्वालिफिकेशन बी.कॉम बताई थी। इन दोनों शपथ पत्रों में बताई गई अलग-अलग शैक्षिक योग्यता के कारण विवाद बढ़ गया था। ये सार्वजनिक बहसों और मंचों का सवाल बन गया था। स्मृति ईरानी की शिक्षा का मामला इतना बढ़ गया कि ये कोर्ट तक जा पहुंचा था। जिस समय ये विवाद हुआ उस वक्त वो मानव संसाधन विकास मंत्री के पद पर थी।

स्मृति ईरानी ने किया येल से पढ़ने का दावा

इतना ही नहीं साल 2014 के आम चुनाव के बाद एक मीडिया कार्यक्रम में स्मृति ने दावा किया था कि उन्होंने अमेरिका में येल युनिवर्सिटी से भी डिग्री हासिल की है। इसके बाद, विपक्ष ने उनसे सवाल किया कि उन्होंने येल से ली डिग्री के बारे में अपने चुनावी हलफनामे में क्यों नहीं बताया।

“क्योंकि मंत्री भी कभी ग्रेजुएट थी”

अब जब ये नया हलफनामा सामने आया है जिसमें स्मृति ईरानी ने अपनी शिक्षा बी कॉम पार्ट वन तक बताई है, जिसका मतलब है कि वो ग्रेजुएट नहीं है तो उन्हें कायदे से 12वीं पास माना जाएगा। जिस पर कांग्रेस प्रवक्त प्रियंका चतुर्वेदी ने चुटकी ली है। प्रियंका ने स्मृति ईरानी के टीवी शो “क्योंकि सास भी कभी बहू थी” के गाने के जरिये निशाना साधा और कहा “क्योंकि मंत्री भी कभी ग्रेजुएट थी”।

कांग्रेस ने बिना कोई मौका गंवाए इस मुद्दे को दोबारा से उठा लिया है और अमेठी से राहुल गांधी को चुनौती देने वाली स्मृति ईरानी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

ये भी पढ़ें

कोरोना वैक्सीनेशन

कोरोना वैक्सीनेशन से जुड़े सारे सवालों के जवाब पाएं!

भारत में कोरोना वैक्सीनेशन का पहला चरण शुरु हो गया है। माना जा रहा है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *