Tuesday , August 20 2019
Home > Sports > जब सरदार बनकर चुपके से जा रहे थे सौरव गांगुली, पुलिस ने पहचान लिया
Saurav-ganguli-biography

जब सरदार बनकर चुपके से जा रहे थे सौरव गांगुली, पुलिस ने पहचान लिया

सेलिब्रीटीज होने के अपने फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी है। फेमस क्रिकेटर, एक्टर को आम लोगों का जीवन जीने के लिए और महसूस करने के लिए मौका नहीं मिल पाता है, खासकर के भारत देश में। ये लोग चाहते हुए भी भीड़ में खुलेआम या अकेले नहीं घूम पाते क्योंकि उन्हें देखकर कब भीड़ आ जाए इसकी कोई गारंटी नहीं ले सकता।

 

sourav ganguly sardaar

 

लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली यानी दादा ने काफी हद तक इस समस्या का तोड़ निकाल लिया था। सौरव गांगूली भीड़-भाड़ इलाके में आराम से घूमे और किसी ने उन्हें पहचाना भी नहीं ।

दरअसल, ये बात अब की नही है बल्कि कई साल पहले जब गांगुली ने आम लोगों के बीच में जाने का फैसला किया था, तब का है। इस बात का खुलासा उन्होंने अपनी किताब ”अ सेंचुरी इज नॉट एनफ” में किया है।

गांगुली ने अपनी किताब में जीवन के तमाम यादगार लम्हों में से एक इस घटना का जिक्र किया है। गांगुली के किताब के अनुसार वो कोलकाता में सरदार का रूप बनाकर दुर्गा पूजा में शामिल हुए थे और उन्हें एक सरदार के रूप में उनकी पत्नी डोना ने तैयार किया था।

 

Sourav Ganguly

 

गांगुली ने बताया, “मैंने देवी की प्रतिमा की विदाई में सरदार बनकर शामिल होने का मन बना लिया था।“ गांगुली की माने तो उनके सभी भाई-बहनों ने उनका मजाक उड़ाया। किसी को यकीन नहीं था कि गांगुली अपनी पहचान छिपाने में सफल होंगे। लेकिन सौरव गांगुली ने इस चुनौती को स्वीकार कर लिया।

 

गांगुली ने किताब में लिखा है कि वो ट्रक में सवार होकर मूर्ति विसर्जन में शामिल होने का प्रयास कर रहे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें परमिशन नहीं दी। इसके बाद गांगुली अपनी बेटी के साथ कार में बैठ गए। तभी एक पुलिस इंस्पेक्टर गांगुली की कार में झांका और गांगुली को देखकर मुस्कुराने लगा तब गांगुली को थोड़ी शर्मिंदगी महसूस हुई लेकिन तभी गांगुली ने पुलिस वाले को चुप रहने का इशारा किया। इस तरह अंत में गांगुली की मूर्ति ‘विसर्जन’ में शामिल होने की कोशिश रंग लाई। साथ ही आम लोगों के बीच जीने का एक नया अनुभव भी मिला।

 

ये भी पढ़ें

what-is-obstructing-the-field-out-rule-of-cricket क्या है Obstructing The Field

क्या है Obstructing The Field? क्रिकेट इतिहास में 10 बार इस नियम से आउट हुए बल्लेबाज

Obstructing the field जिसे हिन्दी में ‘मैदान में बाधा उत्पन्न करना’ कहा जाता है। किसी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *