Tuesday , September 17 2019
Home > Understand India > ‘राफेल’ की वजह से मोदी सरकार ही नहीं बल्कि ये गांव भी है परेशान
village in Chhattisgarh wants name change due to Rafale controversy
Photo Source: livehindustan.com

‘राफेल’ की वजह से मोदी सरकार ही नहीं बल्कि ये गांव भी है परेशान

इस बार के चुनाव में राफेल (Rafale) पर लगातार घमासान हो रहा है। ये विमान जहां बीजेपी के लिए सिर दर्द बना हुआ है, तो वहीं कांग्रेस इसे अपने लिए संजीवनी मान रही है। लेकिन आपको जान कर थोड़ी हैरानी होगी कि राफेल लड़ाकू विमान सौदा सिर्फ मोदी सरकार के लिए ही नहीं, बल्कि एक गांव के लिए भी परेशानी बना हुआ है।

ये गांव छत्तीसगढ़ में है। राफेल विमान के विवादों में घिरे होने की वजह से छत्तीसगढ़ के लोग इस गांव का मजाक बना रहे हैं। दरअसल, इस गांव का नाम भी राफेल है। छत्तीसगढ़ के महासमुंद (Mahasamund) निर्वाचन छेत्र में एक छोटा सा गांव है, जिसका नाम राफेल (Rafel) है।

2000 परिवार रहते हैं गांव में

आपको बता दें कि इस गांव में लगभग 2000 परिवार रहते हैं और गांव में रहने वाले एक 83 साल के बुजुर्ग धर्म सिंह का कहना है कि बाकी गांवों के लोग हमारा मजाक उड़ाते रहते हैं, वो कहते हैं कि अगर कांग्रेस की सरकार बन गई तो हमारी जांच होगी। जिससे परेशान होकर इस गांव के लोगों ने मुख्यमंत्री ऑफिस में जाकर नाम बदलने की भी अपील की थी, लेकिन वो ऐसा करने में असफल रहे, क्योंकि वो मुख्यमंत्री से मिल नहीं सके।

कोई नहीं जानता गांव को

उन्होंने कहा कि राफेल विमान के विवाद की वजह से ये नाम सिर्फ नकारात्मक रूप से लिया जाता है। इस गांव के लोगों का कहना है कि हमारे गांव की किसी को कोई परवाह नहीं है, छत्तीसगढ़ से बाहर तो लोगों को हमारे गांव के बारे में पता भी नहीं है। यहां के लोगों का कहना है कि गांव में पानी और सफाई जैसी सुविधाएं भी नहीं हैं। लोगों के मुताबिक खेती पूरी तरह से बारिश पर ही निर्भर करती है, क्योंकि सिंचाई के लिए सरकार की तरफ से कोई सुविधा नहीं दी गई है। यहां के लोग खुद इस बात को नहीं जानते कि उनके गांव का नाम राफेल क्यों है, और इसका मतलब क्या है।

Credit: PTI

दशकों से गांव का नाम है राफेल

यहां पर रहने वाले लोगों के मुताबिक दशकों से इस गांव का नाम राफेल है। साल 2000 में छत्तीसगढ़ के बनने से भी पहले इस गांव का नाम यही हुआ करता था। हालांकि अंग्रेजी में स्पेलिंग के मामले में अंतर है। गांव वाले राफेल की स्पेलिंग Rafel है जबकि राफेल विमान में स्पेलिंग Rafale है।

आपको बता दें कि कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी सरकार को फ्रांस के साथ हुए राफेल सौदे को लेकर हमला कर रहे हैं और लगातार निशाना साध रहे हैं। विपक्ष का आरोप है कि सरकार ने उद्योगपति अनिल अंबानी को लाभ पहुंचाने के लिए इस विमान की कीमतों के दाम बढ़ा दिए, जिसे लगातार बीजेपी और अनिल अंबानी की तरफ से नकारा गया है।

ये भी पढ़ें

ओडिशा के मोदी के नाम से सुर्खियां बटौरने वाले प्रताप चंद्र सारंगी

जानिए ‘ओडिशा के मोदी’ के बारे में, जो बनना चाहते थे साधू

ओडिशा की बालासोर लोकसभा सीट से चुनाव जीते प्रताप चंद्र सारंगी (Pratap Chandra Sarangi), इस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *