Wednesday , February 26 2020
Home > Technology > ‘मिशन शक्ति’ क्या है और क्या होंगे इसके फायदे
what is mission shakti and its benefits

‘मिशन शक्ति’ क्या है और क्या होंगे इसके फायदे

क्या है मिशन शक्ति (Mission Shakti)

आज भारत को एक बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है, जिसकी जानकारी खुद PM मोदी ने जनता को संबोधित करते हुए दी है। PM मोदी ने जानकारी देते हुए कहा है कि भारतीय वैज्ञानिकों ने 300 किमी दूर Low Earth Orbit के एक सैटेलाइट को मार गिराया है। भारत की तरफ से मिशन शक्ति के अंतर्गत जिस सैटेलाइट को मार गिराया गया है वह एक पूर्व निर्धारित लक्ष्य था।

इस पूर्व निर्धारित लक्ष्य को एंटी-सैटेलाइट A-SAT मिसाइल की मदद से मार गिराया गया है और इस मिशन को सिर्फ तीन मिनट के अंदर पूरा किया गया है। जिसका मतलब एक टारगेट पर हमला कर A-SAT मिसाइल की टेस्टिंग की गई है। मिशन शक्ति आसान नहीं बल्कि एक मुश्किल मिशन था और इससे भारत की तकनीकी क्षमता में विस्तार हुआ है।

भारत की इस उपलब्धि से अब दुश्मनों पर स्पेस का सहारा लेकर भी हमला किया जा सकता है। ये उपलब्धि भारत को युद्ध की स्थिति में बड़ी कामयाबी दिला सकती है। मिशन शक्ति को इसरो (ISRO) और डीआरडीओ (DRDO- Defence Research and Development Organisation) दोनों ने मिलकर पूरा किया है और इसके साथ ही भारत ने इस सफल परिक्षण की मदद से चीन को भी एक मजबूत संदेश दे दिया है।

मिशन शक्ति से दुनिया का चौथा देश बना भारत

दरअसल, पड़ोसी देश पाकिस्तान के पास अब तक ऐसी कोई ताकत नहीं है। वहीं, एशिया में अभी तक चीन के पास ही ये ताकत मौजूद थी लेकिन अब भारत का नाम भी इसमेंं शामिल हो गया है। इसके अलावा, भारत ऐसी ताकत हासिल करने वाला अमेरिका, रशिया और चीन के बाद दुनिया का चौथा देश बन चुका है।

क्या होता है Low Earth Orbit

आपको बता दें कि लो अर्थ ऑर्बिट (Low Earth Orbit) का इस्तेमाल मूल रुप से टेलीकम्युनिकेशन के लिए ही किया जाता है। ये ऑर्बिट पृथ्वी की सतह से 1200 मील यानी लगभग 2 हजार किलोमीटर की ऊंचाई पर होता है। आसान भाषा में कहा जाए तो ईमेल, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और पेजिंग जैसी सेवाओं में ही इसका इस्तेमाल किया जाता है। ये सैटेलाइट तेज रफ्तार से चलती है और इनकी कोई एक फिक्स जगह नहीं होती है।

ये भी पढ़ें

jagruk app

24 घंटें बिजली नहीं आने पर ऐप से होगी शिकायत, तुरंत होगी कार्रवाई

केंद्र सरकार की तरफ से 24 घंटे बिजली की आपूर्ति को सुनिश्चित करने के लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *