Monday , May 10 2021
Home > Understand India > World Cancer Day : वो कैंसर जो लोगों में हैं सबसे कॉमन!
World Cancer Day

World Cancer Day : वो कैंसर जो लोगों में हैं सबसे कॉमन!

World Cancer Day हर साल 4 फरवरी को मनाया जाता है। इसका मकसद पूरी दुनिया में कैंसर के बारे में जागरूकता फैलाना है। World Cancer Day 2021 की थीम “मैं हूं और मैं रहूंगा”। World Cancer Day पर दुनिया भर में इस खतरनाक बीमारी के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

कैंसर दुनिया की सबसे जानलेवा बीमारियों में से एक हैं। कई बार इसके लक्षणों का पता ही नहीं चलता है। जब इस बीमारी का खुलासा होता है, तब तक काफी देर हो जाती है। कुछ प्रकार के कैंसर में cells तेजी से बढ़ते हैं। कैंसरग्रस्त cells में उन घटकों की कमी होती है, जो उन्हें विभाजित करने और मरने से रोकने का निर्देश देती हैं। इस आर्टिकल में हम कुछ कॉमन कैंसर के बारे में बता रहें हैं और साथ में उनके लक्षणों और कारणों को भी जानते हैं।

World Cancer Day पहली बार कब मनाया गया था?

पहली बार World Cancer Day साल 1933 में मनाया गया था। अंतरराष्ट्रीय कैंसर नियंत्रण संघ ने जिनेवा में पहली बार 4 फरवरी 2000 को कैंसर दिवस मनाया गया था। इसमें ये तय किया गया था कि हर साल 4 फरवरी को कैंसर के प्रति जागरूकता के लिए इस दिवस को मनाया जाएगा।

जानें कैंसर के कुछ लक्षण

  • अत्यधिक थकान
  • कमजोरी
  • फोड़ा या गांठ
  • कफ और सीने में दर्द
  • कूल्हे या पेट में दर्द
  • नि‍प्पल में बदलाव
  • पीरियड्स में तकलीफ
  • बेवजह वजन घटना

जानें कैंसर के कारण

  • धूम्रपान
  • शराब का भारी सेवन
  • अतिरिक्त शरीर का वजन
  • शारीरिक निष्क्रिया
  • खराब पोषण

ये हैं सबसे कॉमन कैंसर

स्तन कैंसर

स्तन कैंसर के लक्षणों में स्तन में एक गांठ, निप्पल या स्तन के आकार या बनावट में परिवर्तन शामिल हैं

प्रोस्टेट कैंसर

लक्षणों में पेशाब के साथ कठिनाई शामिल है, लेकिन कभी-कभी कोई लक्षण नहीं होते हैं

बेसल सेल कैंसर

ये कैंसर आमतौर पर चेहरे और गर्दन जैसे धूप में फैलने वाले क्षेत्रों पर सफेद, मोमी गांठ या भूरे रंग के टेढ़े मेढ़े रूप में दिखाई देता है

स्किन कैंसर (मेलेनोमा)

लक्षणों में एक नया, असामान्य विकास या मौजूदा मोल में बदलाव शामिल हो सकता है। मेलानोमा शरीर पर कहीं भी हो सकता है

पेट का कैंसर

कोलोरेक्टल कैंसर के लक्षण कैंसर के आकार और स्थान पर निर्भर करते हैं। कुछ सामान्य रूप से अनुभवी लक्षणों में आंत्र की आदतों में बदलाव, मल की स्थिरता में परिवर्तन, मल में रक्त और पेट की परेशानी शामिल है

फेफड़ों का कैंसर

लक्षणों में एक खांसी (अक्सर खून के साथ), छाती में दर्द, घरघराहट और वजन कम होता है। जब तक कैंसर बढ़ा नहीं होता तब तक ये लक्षण अक्सर दिखाई नहीं देते हैं।

ल्यूकेमिया

ल्यूकेमिया के धीमी गति से बढ़ने वाले कई रोगियों में लक्षण नहीं होते हैं। ल्यूकेमिया के तेजी से बढ़ते प्रकारों में लक्षण हो सकते हैं जिनमें थकान, वजन कम होना, बार-बार संक्रमण और आसान रक्तस्राव या चोट लगना शामिल हैं

लिम्फोमा

लक्षणों में बढ़े हुए लिम्फ नोड्स, थकान और वजन घटाने शामिल हैं

ये भी पढ़ें

बर्ड फ्लू

बर्ड फ्लू से डरने की जरूरत है या नहीं? जाने सारे सवालों के जवाब

भारत में अभी कोरोना वायरस का संकट खत्म भी नहीं हुआ है कि कई राज्यों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *